शरद पवार ने की उद्धव ठाकरे सरकार की प्रशंसा, कहा-इसके फैसलों से कोरोना के मामलों में आई कमी

राजस्थान

महाराष्ट्र सरकार ने संकेत दिया है कि वह पेट्रोल और डीजल पर केंद्र के उत्पाद शुल्क में कटौती के बाद ईंधन की कीमतों में लोगों को राहत देगी, लेकिन अगर केंद्र सरकार राज्य को जीएसटी मुआवजे का भुगतान करती है तो वह ऐसा करने की स्थिति में होगी.

पुणे: Maharashtra: राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) ने महाराष्ट्र (Maharashtra) में उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली महा विकास आघाड़ी सरकार (Maha vikas aghadi Government) की सराहना करते हुए कहा कि इसके द्वारा लिए गए ‘‘कुछ महत्वपूर्ण फैसलों” ने कोविड​​-19 मामलों को कम करने में मदद की. उन्होंने यह भी विश्वास व्यक्त किया कि चीजें सामान्य हो जाएंगी और महामारी से प्रभावित अर्थव्यवस्था फिर से पटरी पर आ जाएगी.उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र सरकार ने संकेत दिया है कि वह पेट्रोल और डीजल पर केंद्र के उत्पाद शुल्क में कटौती के बाद ईंधन की कीमतों में लोगों को राहत देगी, लेकिन अगर केंद्र सरकार राज्य को जीएसटी मुआवजे का भुगतान करती है तो वह ऐसा करने की स्थिति में होगी.

पवार पुणे जिले के बारामती स्थित अपने आवास पर शुक्रवार को पत्रकारों से बात कर रहे थे. दीपावली के मौके पर वह अपने परिवार के सदस्यों और पार्टी कार्यकर्ताओं से मिलने के लिए अपने आवास पर थे. पिछले साल कोविड-19 महामारी के कारण पवार परिवार ने बारामती में दीवाली का उत्सव नहीं मनाया था.उन्होंने कहा,‘‘पिछले साल, कोविड-19 के कारण, हमें कुछ मानदंडों का पालन करना पड़ा, लेकिन अब देश में कोविड-19 का खतरा धीरे-धीरे कम हो रहा है. जहां तक महाराष्ट्र का सवाल है, राज्य सरकार ने कुछ महत्वपूर्ण निर्णय लिए, जिसके परिणामस्वरूप हम देख रहे हैं कि कोरोना वायरस रोगियों की संख्या घट रही है.”उन्होंने कहा, ‘‘इस साल भी, परिवार इस बात को लेकर असमंजस में था कि दीपावली हमेशा की तरह मनाई जाए या नहीं, लेकिन लोगों और सहयोगियों ने जोर देकर कहा कि हम बारामती में दिवाली मनाएं और आश्वासन दिया कि वे सभी कोविड-19 मानदंडों का पालन करेंगे. आज सैकड़ों लोग, पार्टी के कार्यकर्ता आए और अनुशासित तरीके से दिवाली की बधाई दी.”

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि कोरोना वायरस की स्थिति में और सुधार होगा. पवार ने कहा, ‘‘हम खतरे से बाहर आ रहे हैं… मुझे यकीन है कि हम वापस सामान्य हो जाएंगे और महामारी के दौरान हुए नुकसान की भरपाई कर पायेंगे और हम अर्थव्यवस्था को बहाल करने में सक्षम होंगे. सभी लोगों और मुझे यकीन है कि हम नई उम्मीद के साथ फिर से शुरुआत करने में सफल होंगे.”ईंधन की कीमतों पर केंद्र द्वारा दी गई राहत पर और यह पूछे जाने पर कि क्या राज्य सरकार लोगों को कुछ राहत देगी, पवार ने कहा कि उन्हें इस मुद्दे पर राज्य सरकार से बात करने की जरूरत है. उन्होंने कहा, ‘‘राज्य सरकार ने संकेत दिया है कि वह निश्चित रूप से राहत प्रदान करेगी, लेकिन केंद्र को जीएसटी मुआवजे का भुगतान करना चाहिए और अगर यह दिया जाता है तो ही लोगों के पक्ष में निर्णय लेना संभव होगा.”

Related Posts

राजस्थान

सुप्रीम कोर्ट पहुंचा राजस्थान विवाह पर नए कानून का मामला, अध्यादेश की संवैधानिकता को चुनौती – siwansamachar.in

राजस्थान विधानसभा ने हाल ही में बाल विवाह सहित विवाहों के अनिवार्य पंजीकरण पर 2009 अधिनियम में संशोधन करने के लिए एक विधेयक पारित किया