आए दिन बिना ढ़ाला बंद किए ट्रेन निकल पड़ती है

महाराजगंज । दुरौंधा मशरख रेल रूट पर चलने वाले एकमात्र पैसेंजर ट्रेन के ड्राइवर गार्ड और रेलकर्मी आमजन की सुरक्षा कि परवाह किए बिना रेलवे के नियम कानून की धज्जियां आए दिन उडा रहे है, जिसका जीता जागता उदहारण मंगलवार महाराजगंज स्टेशन के पूर्व केबिन पर देखने को मिला। 55172 मशरख दरौंदा सवारी गाड़ी अपने निर्धारित समय 11ः15 बजे मशरख से चल कर महाराजगंज हाल्ट स्टेशन के पूर्व केबिन पर पहुंच समपार संख्या 6 सी का फाटक बिना बंद किए गंतव्य स्थल महाराजगंज स्टेशन पर पहुंच गयी। रेलवे के कर्मचारियों की घोर लापरवाही के कारण कुछ देर के लिए वहां पर लोग दृश्य देखकर अस्तबद रह गए आफरा-तफरी का माहौल तो हो ही गया हालांकि रेलवे कर्मचारियों की इस लापरवाही से कोई जान माल की क्षति बिल्कुल ही नहीं हुई। गौरतलब हैं कि दुरौंधा मशरख रेल खण्ड पर पड़ने वाले लगभग अधिकांश समपारों पर रेलवे का कोई कर्मचारी प्रतिनियुक्ति नहीं है। दुरौंधा मशरख सवारी गाड़ी दुरौंधा जं. से 7ः35 बजे चलती है उसी ट्रेन के साथ एक गेटमैन चलता है जो समपार पर पहुंच कर ट्रेन रूकती है तब गेटमैन नीचे उतर कर समपार का गेट बंद करता है तो ट्रेन आगे बढ़ती है फिर गेटमैन गेट खोल कर ट्रेन में चढ़ता है तब जा कर ट्रेन गन्तव्य की ओर बढ़ती हैं।ये प्रक्रिया लगभग जब से महाराजगंज दुरौधा रेल परिचालन शुरू हुआ तब से आज तक बना हुआ है एक बार ऐसा ही हुआ की मांझी बरौली पथ पर नखास चौक के पास रेलवे ढाला पर दरौंदा के तरफ से ट्रेन आ रही थी और ट्रेन आ कर डाला से तकरीबन 10 कदम दूर रूकती है गेटमैन ट्रेन से उतरकर फाटक को बंद करता है तब ट्रेन स्टेशन तक पहुंचती है और फिर गेट मैनगेट गेट को खुलता है। एक घटना रेल कर्मियों के साथ घटी जब ट्रेन दुरौधा से आकर महाराजगंज हाल्ट स्टेशन पहुंचने वाली थी ढाला से 10 कदम दूरी पर थी तभी सीआरपीएफ के जवान बस से ढाला क्रौस कर रहे थे अचानक उनकी नजर पड़ी और बस से कूदने में अफरा-तफरी मच गई। ट्रेन चालक और गेटमैन में नोकझोंक, हाथापाई भी हुआ था परंतु इस व्यवस्था को सुधारा नहीं गया।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: