शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र में प्रतिनिधि बदलाव की शिक्षको की है चाहत – प्रो0 अशोक

सीवान । शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र में व्यापक स्तर पर बदलाव की चाहत है। ऐसे में मैं शिक्षक हितों की लड़ाई लड़ने को तैयार हु। प्रदेश में नियोजित शिक्षको की उम्मीदों को टूटने नही दूंगा। इसके लिए हर लड़ाई को तैयार हूं। शिक्षक शब्द में नियोजित शब्द सूट ही नही करता है। नियमित शब्द की लड़ाई लड़नी है। यूनिवर्सिटी में रजिस्टार के रूप में लंबे समय तक मैंने शिक्षकों की सेवा की है। सभी शिक्षक बंधु मेरे परिवार की सदस्य की तरह है। ये बाते सारण शिक्षक निर्वाचन चुनाव में उम्मीदवार के रूप में अपनी किस्मत आजमाने जा रहे प्रोफेसर अशोक कुमार यादव ने प्रेस से बात करते हुए कही। उन्होंने कहा कि वित्तरहित शिक्षा नीति को हटा कर वेतनमान शिक्षा नीति को लागू करना चाहिए। उन्होंने बताया कि जय प्रकाश विश्वविद्यालय में कुल सचिव के रूप में कार्य के दौरान कभी किसी शिक्षक को शिकायत नही हुई। शिक्षकों की लड़ाई सदन के अंदर ही लड़ी जा सकती है। ऐसे में शिक्षक मुझपर विस्वास करे और अपनी लड़ाई लड़ने का मौका दे। शिक्षकों के मान सम्मान से कोई समझौता नही होने दूंगा। प्रोफेसर अशोक यादव ने कहा कि अभी तक जिन जन प्रतिनिधियो ने नेरतित्व किया है उन्होंने शिक्षकों की लड़ाई को गलत नीतियों से कमजोर किया है। ऐसे में बदलाव होगा और मुझे पूरी उम्मीद है कि शिक्षक मुझे अपना नेतृत्वकर्ता चुनेगे।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: