siwansamachar

Samachar Tej Raftar Se

चुनावी नतीजों के बाद
News

चुनावी नतीजों के बाद: शेयर बाजार की दिशा!

नई दिल्ली – चुनाव के परिणाम आने के बाद भारतीय स्टॉक मार्केट का कैसा प्रदर्शन हो सकता है, इसे लेकर आज हम विस्तार से चर्चा करेंगे। इस वीडियो में हम विभिन्न संभावनाओं और सरकारों के प्रभाव के आधार पर आंकड़ों और तर्कों के साथ विश्लेषण करेंगे।

चुनाव के बाद बाजार का आउटलुक (Outlook)

जैसा कि हम देख रहे हैं, चुनावी माहौल में कई नेता स्टॉक मार्केट के बारे में अपने विचार साझा कर रहे हैं। हाल ही में, अमित शाह ने कहा कि 6 जून के पहले निवेश कर लेना चाहिए और प्रधानमंत्री मोदी ने भी चुनाव परिणाम के बाद बाजार में तेज़ी की भविष्यवाणी की है। लेकिन इन बयानों को अलग रखते हुए, हम डेटा और तर्कों के आधार पर अध्ययन करेंगे।

पिछला बाज़ार प्रदर्शन (Past Market Performance)

2004:- यूपीए सरकार का आना एक बड़ा आश्चर्य था, जिससे बाजार एक दिन में 8% और एक महीने में 12% गिर गया। हालांकि, 6 महीने में बाजार ने 9% की रिकवरी कर ली और 2004-2007 के बीच भारतीय स्टॉक मार्केट ने जबरदस्त बुल रन देखा।

2009:- यूपीए सरकार की वापसी के साथ ही पहले दिन 17% का उछाल देखा गया। एक महीने में 23% और 6 महीने में 37% की बढ़त दर्ज की गई। उस समय, 2008 की सबप्राइम क्राइसिस के बाद बाजार पहले ही काफी गिर चुका था।

2014:- बीजेपी की मजबूत बहुमत के साथ बाजार ने एक दिन में 1.12%, एक महीने में 4.5% और 6 महीने में 16% की शानदार बढ़त दिखाई।

2019:- बीजेपी की वापसी की उम्मीदों के बीच बाजार ने एक दिन में 1.6% और 6 महीने में न्यूनतम रिटर्न दर्ज किया।

भविष्य के परिदृश्य

1. मौजूदा सरकार की निरंतरता:

  • Foreign investors stability की वजह से निवेश को प्रोत्साहित करेंगे।
  • Capex-related segments और private banks अच्छा प्रदर्शन करेंगे।
  • Small और mid-caps भी बेहतर कर सकते हैं।

2. बीजेपी कुछ सीटों से पिछड़ रही है:

Coalition सरकार बनने की स्थिति में popular decisions लिए जाएंगे, जिससे large caps और consumer segments बेहतर करेंगे।

3. कमजोर गठबंधन:

बाजार में instability आ सकती है। Defensive segments जैसे IT, pharma, और export-related companies बेहतर कर सकती हैं।

4. नई सरकार:

नई सरकार की policies और budget पर निर्भर करेगा कि कौन से segments अच्छा करेंगे। अस्थिरता की संभावना है।

Conclusion

बाजार में निवेश करने से पहले, financial advisor से परामर्श जरूर करें। हम सिर्फ यह समझने की कोशिश कर रहे हैं कि अतीत के आधार पर बाजार को कैसे study किया जा सकता है और चुनाव के बाद संभावित performance क्या हो सकता है।

इसके बारे में और जानें:- Blinkit ka Badhta Raaj